• अतीक, अंसारी बंधुओं को टिकट नहीं देगी सपा, अमेठी से लड़ेंगे प्रजापति
  • मथुरा कांड का मास्‍टरमाइंड विवेक यादव गिरफ्तार
  • अवैध हथियार के मामले में बरी हुए सलमान खान

Share On

National | 10-Jan-2017 12:31:25 PM
सहकारी बैंकों ने कालेधन को सफेद किया

  • आयकर विभाग ने सहकारी बैंकों को लेकर जताई चिंता
  • बेनामी लॉकरों से भारी मात्रा में नकदी बरामद की गई




 

दि राइजिंग न्‍यूज

10 जनवरी, नई दिल्‍ली।

आयकर विभाग ने देशभर में सहकारी बैंकों के कामकाज के तरीके पर गंभीर चिंता जताई है। विभाग ने दावा किया कि सहकारी बैंकों ने नोटबंदी को कालेधन को सफेद करने के अवसर के रूप में इस्तेमाल किया। विभाग की एक विश्लेषण रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। 

इसमें कहा गया है कि कर अधिकारियों ने पाया कि आठ नवंबर के बाद ये बैंक कालेधन के सृजन और उसे ठिकाने लगाने में अभूतपूर्व स्तर पर लगे हुए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर को ही 500 और 1,000 का नोट बंद करने की घोषणा की थी।

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस तरह की गैरकानूनी गतिविधियों में कई तरीकों से साठगांठ देखने को मिली। इन बैंकों ने बड़ी मात्रा में धनराशि को काले से सफेद करने के लिए चालाक तथा गैरकानूनी रास्ता अख्तियार किया।

आयकर जांच में पाया गया कि ऐसे एक मामले में एक छोटे से कस्बे राजस्थान के अलवर में बैंक के निदेशकों ने 90 संदिग्ध पहचान वाले 90 लोगों के नाम पर ऋण हासिल कर आठ करोड़ रुपये का चूना लगाया। वहीं प्रबंधन ने दो करोड़ रुपये के व्यक्तिगत बेहिसाबी धन को सफेद करने के लिए इसका इस्तेमाल किया।

जयपुर के एक सहकारी बैंक में डेढ़ करोड़ रुपये बैंक के क्लियरिंग हाउस कमरे की अलमारी में पाए गए। विभाग ने कई शहरों में बिना आवंटन वाले तथा बेनामी लॉकरों से भारी मात्रा में नकदी बरामद की। इनमें सोलापुर, पंधारपुर (महाराष्ट्र), सूरत (गुजरात) और राजस्थान के जयपुर के बैंक शामिल हैं।

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 



 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter


   Photo Gallery   (Show All)
सर्द की भोर में कोहरे से लिपटा दुधवा नेशनल पार्क । फोटो- कुलदीप सिंह
सर्द की भोर में कोहरे से लिपटा दुधवा नेशनल पार्क । फोटो- कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें