• कोलकाता वनडे: भारत ने जीता टॉस, पहले गैंदबाजी का फैसला
  • तिनसुकिया में असम राइफल्स और उल्फा-NSCN में मुठभेड़, तीन जवान शहीद
  • मुुलायम की गैर मौजूदगी में सपा का घोषणापत्र जारी
  • सामाजवादी पार्टी और कांग्रेस कर सकतेे हैैं गठबंधन - सूत्र

Share On

Home | 11-Jan-2017 11:14:16 AM
मुलायम करेंगे हल की सवारी, अखिलेश का पेड़!



 
दि राइजिंग न्‍यूज

11 जनवरी, लखनऊ।

आगामी 13 जनवरी को निर्वाचन आयोग के संभावित फैसले के मद्देनजर मुलायम सिंह यादव और बेटे अखिलेश यादव ने नई सवारी के विकल्प पर काम शुरू कर दिया है। मुलायम सिंह यादव जहां अपना पुराना चोला पहनकर बैलों से हल जोतता‍ किसान पर सवार होना चाहते हैं वहीं अखिलेश यादव पेड़ पर बैठना चाहते हैं।

समाजवादी पार्टी में सुलह की मैराथन कोशिशों के बीच मुलायम सिंह यादव ने लोकदल अध्यक्ष सुनील सिंह से सम्पर्क साधा है और साइकिल चुनाव चिन्ह सीज होने की दशा में विकल्प के रूप में बैल सेहल जोतता किसान चुनाव चिन्ह पर बात की है। सपा प्रमुख की इस पहल का सुनील सिंह ने स्वागत किया है। हल जोतता किसान पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण द्वारा स्थापित लोकदल का चुनाव चिन्ह है।

लोकदल का विभाजन के बाद चौधरी चरण सिंह के बेटे अजित सिंह की पार्टी राष्ट्रीय लोकदल को हैण्डपंपचुनाव मिला था और हल जोतता किसान के बनने सुनील सिंह के पास है। मुलायम सिंह यादव ने अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत लोकदल से की थी और वह चौधरी चरण सिंह की राजनीतिक विरासत का वारिश भी अपने आपको मानते रहे हैस जिस कारण साइकिल से उतारे जाने की दशा में मुलायम सिंह यादव ने अपनी पुरानी सवारी दो बैल से हल जोतते किसान को चुना है।

इधर अखिलेश यादव ने भी साइकिल चुनाव चिन्ह के सीज होने की दशा में विकल्प के रूप में पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर की समाजवादी जनता पार्टी के पेड़ चुनाव चिन्ह को चुना है। सजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमल मोरारका से इस बारे में प्रो. रामगोपाल यादव की बातचीत होने की खबर है। 

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 



 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter


   Photo Gallery   (Show All)
एनबीआरआई, लखनऊ में लगी प्रदर्शनी में गुलाब के फूलों की खूबसूरती देखते ही बनी । फोटो - गौरव बाजपेई
एनबीआरआई, लखनऊ में लगी प्रदर्शनी में गुलाब के फूलों की खूबसूरती देखते ही बनी । फोटो - गौरव बाजपेई

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें