• अमित शाह से मिलने के लिए जालंधर से दिल्ली रवाना हुए विजय सांपला
  • सपा-कांग्रेस में गठबंधन का फॉर्मूला तय, आरएलडी 20 तो कांग्रेस 89 सीटों पर लड़ेगी चुनाव: सूत्र

Share On

Kanpur | 11-Jan-2017 12:06:14 PM
जानिए कैसे हैं पुलिस की शान करीना और प्रियंका

  • नवाब, सूर्यादेवसांभा ताकत के ही नहीं सुरक्षा के भी हैं प्रतीक
  • कानपुर पुलिस घुड़साल में मौजूद हैं 26 घोड़े


प्रतीकात्‍मक फोटो

 

दि राइजिंंग न्‍यूज

गीतेश मिश्रा

11 जनवरी, कानपुर।

हमारी शान भी हैं, हमारी आन भी हैं, हम जिधर से गुजरते हैं, एक बार हम हर किसी को अपना दीवाना बनाते जरूर हैं। ये चंद लाइनें पुलिस लाइन के घुड़साल में मौजूद उन घोड़ों पर बिल्‍कुल सटीक बैठती है। सही मायने में इनका रुतबा और रकब गणतंत्र दिवस व स्‍वतंत्रता दिवस की परेड में देखने को मिलता है। जब पुलिस परेड की अगुवाई कर रहा जवान बेहतरीन कदकाठी के घोड़े पर सवार होकर सलामी देता है तो ग्राउंड में मौजूद हर किसी की निगाहें सिर्फ इन्हीं पर आकर टिकती हैं।

 

खूबियों के साथ नाम

नवाबसूर्याराजादेवसांभाऊदलगब्‍बरटाइगर इन घोड़ों को ये नाम पुलिस अधिकारियों ने ऐसे ही नहीं दिए है बल्कि इनकी खूबियों को देखने के बाद ही रखें गए हैं शर्मिलीडायनाकरीनाजूहीप्रियंका के अलावा कई ऐसे नाम हैं उन घोडि़यों के जिनके नाज नखरे उठने वाला कर्मचारी भी इनकी बातों को इशारों में खूब समझाता है।

पुलिस विभाग की घुड़सवार विंग को माउंटेन पुलिस के नाम से जाना जाता है। कानपुर के ट्रॉफिक पुलिस लाइन स्थित घुड़साल में मौजूद समय 26 घोड़े हैं। जबकि घुड़साल की क्षमता 31 जानवरों को रखने की है।

 

ऐसे काम करती है माउंटेन पुलिस

माउंटेन पुलिस का काम भीड़-भाड़ वाले इलाकों में सुरक्षा व्‍यवस्‍था को दुरुस्‍त रखना,राजनीतिक दलों की रैलीबड़े सरकारी आयोजन में मौजूद भीड़ को नियंत्रित करने के साथ यातायात व्‍यवस्‍था को भी देखना है। शाम के समय इन घोड़ों पर पुलिस के जवान सवार होकर शहर के प्रमुख जगहों पर गश्‍त कर लोगों में सुरक्षा की भावना को पुख्‍ता करने का काम करते हैं।

 

इन नस्‍लों के घोड़े मौजूद है घुड़साल में

कानपुर माउंटेन पुलिस के अस्‍तबल में विदेशी नस्‍ल के थोरो,काठियावाड़ी व देशी नस्‍ल के घोड़े मौजूद है। इनमें थोरो व काठियाबाड़ी नस्‍लों के घोड़े पावरफुल ब्रीड के होने के साथ इन्‍हें चर्चित मुहावरे लंबी रेस का घोड़ा भी कहा जाता है। इसके अलावा देशी नस्‍ल के घोड़े काफी फुर्तीले होते हैं।

 

घोड़ों की है ये खुराक

पुलिस विभाग के नियमानुसार इन घोड़ों को भोजन व स्‍वास्‍थ्‍य भत्‍ता दिया जाता है। एक घोड़े को एक किलोग्राम चोकरदो किलो जौ के अलावा तीस ग्राम नमक चारे के तौर पर सुबह-शाम दिया जाता है। एक जनवरी से 30 जून तक सूखी घास व एक जुलाई से तीस जून तक हरी घास खाने को दी जाती है। साथ ही ताकत में और इजाफ करने के लिए समय-समय पर फूड सप्‍लीमेंट भी दिया जाता है।

 

पुलिस एकेडमी मुरादाबाद व सीतापुर से आते है घोड़े

कानपुर माउंटेन पुलिस की घुड़साल में माउंटेन पुलिस एकेडमी मुरादाबाद व सीतापुर से ट्रेंड किए गए घोड़े आते हैं। इन घोड़ों को ट्रेनिंग सेंटर में भीड़ के बीच कैसे काम किया जाए, परेड में शामिल होने के तौर तरीकों के अलावा अन्‍य तरह की ट्रेनिंग देकर यहां पर भेजा जाता है। बाद में यहां रहने के दौरान उनके राइडर्स उन्‍हें समय-समय पर ट्रेनिंग देते रहते हैं। मंगलवारबुधवार व शुक्रवार को इन घोड़ों को पुलिस लाइन में होने वाली परेड में शामिल किया जाता है।


इन शहरों में है घुड़सवार पुलिस

कानपुरलखनऊबनारसइलाहाबादआगरागोरखुरबरेलीअलीगढ़,फैजाबादमेरठ व मुरादाबाद में घुड़सवार पुलिस मौजूद है।

 

1998 से नहीं हुई राइडर्स की नियुक्ति

पुलिस विभाग की शान कहे जाने वाली यह विंग भी उपेक्षा का दंश झेल रही हैं। इसे विडम्‍बना ही कहा जाए कि बीस सालों से इन विंग को कमांड करने वाले हार्स राइडर्स की नियुक्ति प्रकिया बिल्‍कुल ठप पड़ी है। कानपुर में इस समय केवल 18 राइडर्स ही मौजूद है जबकि यहां पर 26 घोड़े हैं।


राइडर्स ने रोशन किया है विभाग का नाम

माउंटेन पुलिस कानपुर के ऑफिस इंचार्ज एसआई इंद्रपाल सिंह ने राष्‍ट्रीय स्‍तर की कई प्रतियोगिताओं में अपना जलवा बिखेर कर प्रदेश पुलिस का नाम रोशन किया है। उन्‍होंने पुलिस हार्स टेस्‍ट, ड्रेस-सज्‍जाक्‍वाड ड्रील के अलावा लांग जांपिंग में कई नेशनल लेवल के मेडल जीते हैं। यहां के कई राइडर्स ने भी आल इंडिया पुलिस स्‍पोटर्स में अपना लोहा मनवाया है।


एसपी ट्राफिक बोले

एसपी ट्रॉफिेक सर्वानंद सिंह यादव ने कहा कि इस विंग का विभाग की ओर से पूरा ध्‍यान रखा जाता है। समय-समय पर यहां की जरुरतों के बारे में आला अधिकारियों को अवगत भी कराया जाता है।

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 



 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter


   Photo Gallery   (Show All)
सर्द की भोर में कोहरे से लिपटा दुधवा नेशनल पार्क । फोटो- कुलदीप सिंह
सर्द की भोर में कोहरे से लिपटा दुधवा नेशनल पार्क । फोटो- कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें