• अमित शाह से मिलने के लिए जालंधर से दिल्ली रवाना हुए विजय सांपला
  • सपा-कांग्रेस में गठबंधन का फॉर्मूला तय, आरएलडी 20 तो कांग्रेस 89 सीटों पर लड़ेगी चुनाव: सूत्र

Share On

वेजिटेरियन के लिए जाएं ग्रेट इंडियन प्‍लैटर



 

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

लखनऊ कबाब और नॉनवेज के लिए ज्‍यादा जाना जाता है, लेकिन इसका मतलब ये हरगिज नहीं कि यहां शाकाहारी व्‍यंजन नहीं मिलते। नवाबों की नगरी जितनी मशहूर चिकन-मटन के व्‍यंजन के लिए है उतनी ही वेजिटेरियन भोजन की भी वैराइटी है यहां। यहां तमाम रेस्‍त्रा हैं जो लजीज शाकाहारी खाना सर्व करते हैं। खाना-खजाना की इस कड़ी में आज आपको ऐसे ही एक रेस्‍त्रां के बारे में बता रहे हैं जिसने महज 11 महीनो में लोगों के  दिलों में अपनी जगह बना ली है।

हम बात कर रहे हैं ग्रेट इंडियन प्‍लैटर रेस्‍टोरेंट की जहां की खासियत कम दाम पर स्वादिष्ट पेट भराऊ खाना खिलाना है।


11 महीनों में सबका फेवरेट

अभी 11 महीने ही तो बीते हैं इस रेस्‍टोरेंट को शुरू हुए, और आलम यह है कि फैमिली ही नहीं, स्‍कूल के बच्‍चों और बड़े-बुजुर्गों को भी यहां के खाने की लत सी लग गई है। ओनर अभय गुप्‍ता बताते हैं  मैं हमेशा से लखनऊ के खाने का फैन था, लेकिन मैंने नोटिस किया कि भले ही खाना जितना महंगा हो लेकिन एक थाली में खाना कहीं पर भी भरपूर नहीं मिलता था। बस इसी चीज ने मुझे प्ररणा दी और मैंने एक ऐसा रेस्‍टोरेंट खोला जहां एक थाली में आपको सारे स्‍वाद मिल सकें। ये रेस्‍टोरेंट खोलना मेरे पिता का सपना था। मैंं बस उनका सपना पूरा करना चाहता था।

अभय आगे बताते हैं हमारे रेस्‍टोरेंट में फैमिली के साथ-साथ बच्‍चों की पसंद का भी खासकर ध्‍यान रखा गया है। उनके लिए हमारे रेस्‍टोरेंट में कई अलग-अलग डिश हैं जिन्‍हें वे काफी पसंद करते हैं।


ये है इंडियन प्‍लैटर का खास मैन्‍यू

वैसे तो यहां कई चीजें स्‍पेशल हैं पर जो लोगों को सबसे ज्‍यादा पसंद है वो है उनकी थाल। यहां की थाली में तीन वैराइटी है साउथ इंडियन, राजस्‍थानी और इंडियन।

एक थाली में करीब आठ से 15 डिश होती हैं वो भी चंद दाम में।

इसके साथ ही यहां सबको आला कार्ट की सुविधा भी मिली है।

बच्‍चों का यहां खास ध्‍यान रखा गया हैं। बच्‍चों के लिए चाइनीज ड्रम स्‍टिक और बर्ड नेस्‍ट जैसे डिफ्रेंट नाम देकर स्‍पेशल, टेस्‍टी और अट्रैक्टिव डिश बनाई गई है।


रेस्‍टोरेंट की डिजाइनिंग भी है खास

कहते हैं जो‍ दिखता है वो बिकता है इस लिए अभय ने अपने रेस्‍टोरेंट को सुन्‍दर और शानदार बनाने में कोई कमी नहीं की। इसकी पूरी डिजाइनिंग उनके पार्टनर रचित यादव ने की।


क्‍या है आगे की प्‍लाानिंग

अभय बताते हैं कि आने वाले दिनों में जल्‍द ही वे ग्रेट इंडियन प्‍लैटर की तरह अपने में अनोखा अमेरिकन क्‍यूजीन भी खोलना चाहते हैं।



 

Share On

 

अन्य खबरें भी पढ़ें

HTML Comment Box is loading comments...

खबरें आपके काम की

 

 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter

 


शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुडी ख़बरें